जानिये किसने बनाया वानाक्राई रैन्समवेयर और कैसे हुई इसकी शुरुआत

0
68

पिछले कुछ दिनों से वानाक्राई रैन्समवेयर का आतंक बहुत जोरों पर है, इस वायरस ने दुनिया भर के कम्प्यूटरों पर हमला कर उनके डाटा एनक्रिप्ट कर दिया और उन डाटा को फिर से रिस्टोर करने के लिए हैकर्स फिरौती की मांग करते है और न देने पर वो डाटा डिलीट कर देते है। इसकी कोई गारंटी भी नहीं होती है की आपके फिरौती देने पर आपको डाटा वापस मिल ही जायेगा। ऐसे में अब सवाल यह उठता है की आखिर इस वायरस की शुरुआत कहाँ से हुई और इसे किन लोगों ने बनाया।

कहाँ से शुरू हुआ यह वायरस?

इस वायरस की शुरुआत ऐसे हुई की नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी के पास विंडोज ओपरेटिंग सिस्टम की बग्स की फाइल थी, जिसे वो भविष्य में किसी के खिलाफ इस्तेमाल कर सकते थे। लेकिन वह फाइल इंटरनेट पर लीक होकर हैकर्स के हाथ लग गयी। उसके बाद उन्होंने उन बग्स के आधार पर यह वायरस बना दिया जिसने दुनिया भर के कंप्यूटर्स को प्रभावित किया।

माइक्रोसॉफ्ट ने इससे बचने के लिए सिक्योरिटी अपडेट भी जारी कर दिए थे लेकिन वह अपडेट उन्हीं लोगों तक पहुँच सका जिनके पास ओरिजनल विंडोज था, जो लोग पायरेटेड सॉफ्टवेर इस्तेमाल कर रहे थे, या जिन्होंने ओपरेटिंग सिस्टम अपडेट नहीं किया उनको यह अपडेट नहीं मिला जिस कारण बहुत से कंप्यूटर इसके शिकार हुए। इसके साथ जो लोग विंडोज का पुराना वर्जन इस्तेमाल कर रहे है जिसका तकनीकी सपोर्ट माइक्रोसॉफ्ट ने बहुत पहले बंद कर दिया था खासकर उन लोगों को भी इस समस्या का सामना करना पड़ा।

कैसे बचें इस वायरस से

दोस्तों इस वायरस से बचने के लिए आप विंडोज का ओरिजनल ओपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल कीजिये, उसे समय समय पर अपडेट करते रहिये जिससे की आप इससे सुरक्षित रहें, इसके साथ साथ अपने कंप्यूटर में एक अच्छा सा पेड एंटीवायरस इनस्टॉल कीजिये इससे आपके कंप्यूटर की सुरक्षा और भी बढ़ जाएगी।

इसके अलावा डाटा का समय समय पर बैकअप लेकर रखें इसके लिए आप एक्सटर्नल हार्डडिस्क का इस्तेमाल कर सकते है यह बहुत आसन है। अगर आपके पास एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन है तो आप क्लाउड स्टोरेज का भी इस्तेमाल कर सकते है जिससे की आपके डाटा सुरक्षित रहे।

LEAVE A REPLY